Jawahar Lal Nehru ने की थी ये 3 बड़ी गलतियां, जिसकी सजा आज भी भुगत रहा है भारत

Jawahar lal nehru ki 3 badi galtiya

कहा जाता है कि इतिहास में लिया गया एक सही फैसला आपकी किस्मत को पलट देता है, तो वहीं गलत फैसले का खामियाजा आपको लंबे समय तक भुगतना पड़ता है। ऐसा ही कुछ Jammu Kashmir के साथ भी हुआ है। Jammu Kashmir में जो आज परेशानी है, वह सिर्फ India के Frist Pm Jawahar Lal Nehru की ही देन है। पूर्व Pm Nehru के गलत फैसले की वजह से आज देश में Jammu Kashmir का मुद्दा उलझा हुआ है और उसकी वजह से न जाने कितने Army Jawano को शहादत देनी पड़ी, लेकिन यह मामला अभी तक ठंडा नहीं हो पाया है। तो चलिए जानते हैं Jawahar Lal Nehru के तीन गलत फैसलों के बारे में

Jawahar lal nehri ki 3 badi galtiya

Jawahar Lal Nehru के तीन गलत फैसले


आजादी के समय भारत में करीब 600 रियासतों के विलय के लिए नये नियम बनाए गये थे, जिसमें से करीब दर्जन भर रियासतों को छोड़ कर Sardar Patel की इच्छा से India में विलय में हो गया था, लेकिन Jammu Kashmir रियासतों का मुद्दा बतौर Pm Jawahar Lal Nehru ने अपने पास रखा और तभी से Nehru के तीन बड़े गलत फैसलों का खामियाजा आज तक देश भुगत रहा है –

Jawahar lal nehru ki 3 badi galtiya

1- Jammu Kashmir के मामले को United State में ले जाना

सन् 1948 में जब India और Pakistan में युद्ध हुआ तो भारतीय सेना पाकिस्तानियों को खदेड़ने में सफल रही थी और भारतीय सेना ने Baluchistan पर कब्जा कर लिया था। इतना ही नहीं, युद्ध में Pakistan को करारी हार मिली थी और Baluchistan के सभी कबायली समूहों की संसद (जिरगा) ने प्रस्ताव पास किया था कि वे भारत के साथ रहना चाहते हैं, लेकिन तभी अचानक से Pm Jawahar Lal.Nehru ने सीजफायर का एलान कर दिया, क्योंकि वे शांति का माहौल चाहते थे।

2.सन् 1948 में India और Pakistan की जंग में सीज़फायर का एलान करना

सन् 1948 में जब India और Pakistan में युद्ध हुआ तो भारतीय सेना पाकिस्तानियों को खदेड़ने में सफल रही थी और भारतीय सेना ने Baluchistan पर कब्जा कर लिया था। इतना ही नहीं, युद्ध में Pakistan को करारी हार मिली थी और Baluchistan के सभी कबायली समूहों की संसद (जिरगा) ने प्रस्ताव पास किया था कि वे भारत के साथ रहना चाहते हैं, लेकिन तभी अचानक से Pm Jawahar Lal.Nehru ने सीजफायर का एलान कर दिया, क्योंकि वे शांति का माहौल चाहते थे।

3- Article 370 के तहत कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देना

More:-क्या है धारा 370 का मुद्दा पढ़िए इस पोस्ट में

अगर Jawahar Lal Nehru उस समय Jammu Kashmir के महाराजा हरिसिंह का प्रस्ताव मान लेते तो आज जम्मू कश्मीर का विवाद ही नहीं होता और भारत के सभी नियम कानून जम्मू कश्मीर में लागू होते। ऐसे में Jawahar Lal Nehru ने उस समय प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया और कश्मीर को एक विशेष राज्य की दर्जा दे दिया, जिसके बाद से ही वहा Article 370 लागू हुआ और आज भी उसकी लड़ाई जारी है।

दोस्तों क्या Jawahar Lal Nehru जी की ये गलतियां आज भारत देश भुगत रहा है? कमेंट करके अपनी राय दीजिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *