सिद्धु ने फिर दिया विवादित बयान,जानिए क्या कहा सेना के बारे में

नवजोत सिंह सिद्धू

26 फरवरी 2019 को सेना ने पाकिस्तान में घुसकर पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी कैम्प पर एयरस्ट्राइक करके आंतकी ठिकानो को नेस्ता-ना-बूत किया था। इस एयर स्ट्राइक में 250 से भी ज्यादा आंतकियों के मारे जाने की खबर मिली थी हालांकि सेना ने इसे लेकर किसी प्रकार की अधिकारिक घोषणा नही कि थी।
इस एयर स्ट्राइक के साथ ही पूरा विपक्ष यह जानने में जुट गया कि वास्तव में किसी भी प्रकार की एयर स्ट्राइक हुई भी है या नही ।

नवजोत सिंह सिद्धू फिर दिया विवादित बयान

इसी एयर स्ट्राइक को लेकर कॉंग्रेस नेता नवजोत सिंह ने एक बार सेना सहित सरकार की नीयत पर प्रश्न चिन्ह खडा किया है।सिद्धू ने सवाल किया है कि देश में 48 सैटेलाइट हैं लेकिन सरकार को यह नहीं पता कि पेड़ कहां है और ढांचा कहां है।
आपको बता दे कि यह पहला मौका नही है जब नवजोत सिंह ने सवाल पूछा है । 4 मार्च को अपने ट्वीट में उन्होंने कहा कि बालाकोट में पेड़ उखाड़ने गए थे या आतंकी मारने।

नवजोत सिंह सिद्धू

क्या कहा सिधू ने अपने बयान में

नवजोत सिंह ने एयर स्ट्राइक पर सवाल खड़े पहले भी कहा था कि एयर स्ट्राइक में कितने आतंकी मारे गए । सेना और सरकार से जवाब मांगने वाले नवजोत सिंह एक बार अपने बयानों से विवादों से गिरे हुए नजर आ रहे है।पूर्व भाजपा नेता और वर्तमान में कांग्रेस की पंजाब सरकार में मंत्री सिद्धू ने ट्वीट किया कि विश्व के सबसे बड़े फिफेंस डील की फाइल खो गई, खुफिया एजेसी के कारण 40 जवानों की जान चली गई, 1708 आतंकी हमले हुए, 48 सैटेलाइट हैं लेकिन सरकार पेड़ों और इमारतों के बीच अंतर नहीं बता पा रही है.

हालांकि सेना और सरकार की तरफ से इस बारे में कोई जवाब नवजोत सिंह सिधू को नही दिया गया । लेकिन जिस प्रकार से कांग्रेस सहित पूरे विपक्ष सेना और सरकार सर जवाब मांग रहा है वो दुर्भाग्यपूर्ण है ।

सेना की तरफ से दिया गया था जवाब

हालांकि जब भारतीय सेना के अध्यक्ष ने प्रेष कॉन्फ्रेंस की तो एक पत्रकार ने सवाल पूछा कि बालाकोट एयर स्ट्राइक में कितने आतंकी मारे गए । इस पर उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि सेना का काम केवल दुश्मन के ठिकाने नष्ट करने का है, कितने आतंकी मारे गए और कितने नही आज काम हमारा नही है।

One Comment on “सिद्धु ने फिर दिया विवादित बयान,जानिए क्या कहा सेना के बारे में”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *